कन्हैया नहीं अब डॉक्टर कन्हैया कुमार बोलिए, पीएचडी वाइवा पासर करने पर समर्थकों को कहा थैंक्स

PATNA : जेएनयू वाले कन्हैया कुमार अब डॉ कन्हैया कुमार बन गए हैं। जानकारी अनुसार उन्होंने अपनी पीएचडी थीसिस का वाइव पास कर लिया है। इसके साथ ही अब उनके नाम के आगे डॉक्टर जुड़ गया है।

अपने समर्थकों से खुशी का इजहार करते हुए कन्हैया ने कहा कि आज अपनी पीएचडी थीसिस का वाइवा पास करने की ख़ुशी आप सभी से साझा करना चाहता हूँ। रिसर्च गाइड मालाकार सर ने तमाम मुश्किलों का सामना करने में जिस तरह मेरा साथ दिया उसके लिए मैं उनका शुक्रगुज़ार हूँ। इसके साथ ही मैं उन तमाम लोगों का शुक्रगुज़ार हूँ जिन्होंने संघर्ष में मेरा साथ दिया।

सामाजिक विज्ञान में पीएचडी डिग्री मिलने के बाद नाम में ‘डॉक्टर’ जुड़ने पर इतना ज़रूर कहना चाहूँगा कि यह डिग्री मुझे अब और ज़्यादा ज़िम्मेदारी के साथ अशिक्षा, जातिवाद जैसे सामाजिक रोगों से लड़ने की प्रेरणा दे रही है। आज जब बेरोज़गारी, सांप्रदायिकता जैसी समस्याओं से जुड़े सवाल उठाने वालों को चुप कराने के लिए कुछ भी करने को तैयार लोग सत्ता में बैठे हैं तब उस शिक्षा का बहुत महत्व है जो हममें सवाल करने की हिम्मत और समझदारी पैदा करती है। संवैधानिक संस्थाओं को बचाने के लिए हमें शिक्षा को बचाने का संघर्ष करना होगा।

quaint media

आज ख़ुशी के साथ इस बात का दुख भी है कि समाज का एक तबका तीन हज़ार मासिक कमाने वाली माँ के बेटे को उच्च शिक्षा की सीढ़ियों पर चढ़ते देख बहुत परेशान है। उसे संतोषी के भात-भात कहते हुए मर जाने से ज़्यादा चिंता इस बात की है कि ग़रीबों की स्कॉलरशिप पर पैसे खर्च किए जा रहे हैं। इस तबके को मालूम होना चाहिए कि संसाधनों पर सभी का हक है। क्या शरीर के केवल एक अंग में सारा पोषण लगना स्वास्थ्य की निशानी है? क्या आने वाले सालों में अच्छे सरकारी संस्थानों के मौजूद नहीं होने पर बेगूसराय के बीहट गाँव का मेरे जैसा कोई लड़का उच्च शिक्षा तक पहुँचने का सपना देख पाएगा?

पीएचडी की मेरी ख़ुशी तब तक अधूरी रहेगी जब तक हमारे देश के करोड़ों बच्चे ग़रीबी के कारण स्कूल से बाहर रहेंगे, जब तक पाँचवीं-छठी कक्षा के विद्यार्थी दूसरी कक्षा का टेक्स्ट पढ़ने में भी असमर्थ रहेंगे और जब तक उच्च शिक्षा से एकलव्यों को दूर करना जारी रहेगा। हाल में पेश किए गए अंतरिम बजट में शिक्षा की अनदेखी की गई, लेकिन यह चुनावी मुद्दा नहीं बन पाया। जिस देश में शिक्षा का सवाल चुनावी मुद्दा नहीं बन पाता, उसे विकसित देश बनना का सपना देखना छोड़ देना चाहिए। समाज की जिस कल्पना में सभी तबकों के हित शामिल नहीं हैं वह बेमानी है।

आइए, हम ऐसे समाज के निर्माण में जुट जाएँ जहाँ राष्ट्रपति से लेकर चपरासी तक सभी नागरिकों के बच्चों को एक जैसी शिक्षा मिल सके।

The post कन्हैया नहीं अब डॉक्टर कन्हैया कुमार बोलिए, पीएचडी वाइवा पासर करने पर समर्थकों को कहा थैंक्स appeared first on Live Bihar.

In the news
post-image
Bihar News

सुशील मोदी ने तेजस्वी से किया सवाल, क्या बेनामी संपत्ति रखना,सरकारी पैसे से विलास करना नयी सोच?

Patna: भाजपा के वरिष्ठ नेता सह बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने एक बार फिर से तेजस्वी यादव पर जमकर हमला बोला है। इस बार उन्होंने सरकारी बंगले...
post-image
Bihar News

मांझी ने कांग्रेस पर लगाया आरोप, कहा-महागठबंधन में कांग्रेस के कारण आ रही दिक्कत

Patna: बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री व हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (हम) के अध्यक्ष जीतन राम मांझी ने राजेंद्र इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (रिम्स) में भर्ती चारा घोटाला के सजायाफ्ता राजद...
post-image
Bihar News

शाहनवाज हुसैन ने पाकिस्तान पर साधा निशाना, कहा-खून पीने वालों को पानी की जरूरत नहीं

Patna: पूर्व केंद्रीय मंत्री और बीजेपी के फायर ब्रांड नेता शाहनवाज हुसैन ने पुलवामा हमले को लेकर एक बार फिर से पाकिस्तान पर निशाना साधा है। मुजफ्फरपुर पहुंचे बीजेपी...
post-image
Bihar News

फरवरी महीने में आसमान से बरस रहा कहर, पटना में पारा पहुंचा 31.4 डिग्री पर

Patna: बिहार की राजधानी पटना का मौसम फरवरी में ही गर्मी वाला हो गया है। जहां तेज धूप के कारण स्वेटर से तौवा कर शर्ट और टी-शर्ट निकल आई...
post-image
Bihar News

बिहार में ट्रैक्टर और गाड़ी में हुई टक्कर, गुस्साए गाड़ी सवार लोगों ने ट्रैक्टर चालक को जिं’दा जलाया

Patna: बिहार में शनिवार की सुबह एनएच-28 पर ट्रैक्टर और फॉर्च्यूनर गाड़ी की टक्कर हो गयी। जिसके बाद गुस्साए फॉर्च्यूनर सवार लोगों ने ट्रैक्टर चालक को ट्रैक्टर सहित जिं’दा...
Load More